गुर्जरों के हितों के लिए प्रतिबद्ध वसुंधरा सरकार जल्द देगी गुर्जरों को आरक्षण

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने पिछले तीन साल से अधिक समय से जिस तरह पूरे प्रदेश की हर एक जाति के लिए सोचकर व्यक्ति-व्यक्ति का भला किया है उसे देखकर यह कहा जा सकता है कि प्रदेश की 36 कौम की वास्तविक नेता मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे है। मुख्यमंत्री राजे ने राजस्थान की सभी जातियों व समाज को साथ लेकर राजस्थान के विकासरथ को आगे बढ़ाया है। हर समाज और जाति के लोगों ने भी अपनी मुखिया के प्रति निष्ठा दर्शाकर यह साबित किया है कि सुशासन की असल परिचायक वसुंधरा सरकार ही है। राजस्थान की राजनीति में पिछले काफी समय से चर्चा का विषय बन रहे गुर्जर आरक्षण को मुख्यमंत्री राजे ने राजनीति से बाहर निकालकर ज़मीनी सच्चाई के तौर पर स्वीकार किया है। गुर्जर जाति के आरक्षण को विवाद का विषय बना देने वाली प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने गुर्जरों के साथ इस मुद्दे पर बड़ी लम्बी राजनैतिक रस्साकसी की थी। लेकिन राजस्थान की इस मूल जाति के हित को ध्यान में रखते हुए वसुंधरा राजे ने अपने प्राथमिक प्रावधानों में गुर्जर जाति को आरक्षण सुविधा देने की बात जोड़ी है।

Read More: देवनारायण योजनाएं: विशेष पिछड़ा वर्ग को मिल रहा हैं देवनारायण योजनाओं का लाभ, जाने क्या है खास

इस फॉर्मूले के आधार पर गुर्जरों को मिलेगा आरक्षण

राजस्थान सरकार की मुखिया वसुंधरा राजे अब गुर्जर जाति को आरक्षण देने के लिए जल्द ही कदम उठाने वाली है। इसके लिए सरकार अन्य पिछड़े वर्ग का आरक्षण 21 प्रतिशत से बढ़ाकर 26 प्रतिशत कर सकती है। इसके तहत प्रथम वर्ग में अन्य पिछड़ा वर्ग में आने वाली जातियों को 21 प्रतिशत के आधार पर पूर्ववत लाभ दिया जाएगा। दूसरे वर्ग में गुर्जर जाति को सम्मिलित कर उन्हें अतिरिक्त जोड़ा गया 5 प्रतिशत आरक्षण दिया जा सकता है। सरकार के इस तरीके से अन्य पिछड़ा वर्ग के अंतर्गत आने वाली जातियां प्रभावित नहीं होगी।

गुर्जरों के हितों के लिए प्रतिबद्ध वसुंधरा सरकार जल्द देगी गुर्जरों को आरक्षण

गुर्जरों के हितों के लिए प्रतिबद्ध वसुंधरा सरकार जल्द देगी गुर्जरों को आरक्षण

गर्ग कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर दिया जाएगा आरक्षण

राजस्थान सरकार ने पहले गुर्जर जाति को आर्थिक आधार पर प्रमुख पिछड़ा वर्ग (एस.बी.सी.) में शामिल कर आरक्षण दिया था। लेकिन सरकार की इस नीति को हाईकोर्ट ने पिछले साल 9 दिसंबर को खारिज कर दिया था। राज्य उच्च न्यायलय के इस निर्णय के बाद सरकार ने गुर्जरों को आरक्षण दिलाने के लिए गर्ग कमेटी का गठन किया था। इस कमेटी ने राज्यभर में किए गए सर्वे के आधार पर मुख्यमंत्री राजे को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। इस रिपोर्ट के अंदर कमेटी ने गुर्जर सहित पांच जातियों को आरक्षण का लाभ दिलाने की सिफारिशें की है।

Read More: राज्य सरकार कर चुकी है गुर्जर समाज को आरक्षण देने की तैयारी, इस कमेटी ने मुख्यमंत्री राजे को सौंपी अपनी रिपोर्ट

गुर्जर जाति को लाभान्वित करने के लिए देवनारायण योजना की जा रही है संचालित

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे गुर्जर सहित प्रदेश की पांच जातियों बंजारा, गाडिया लोहार, राईका रेबारी और गडरिया के लाभ के लिए आराध्य श्री देवनारायण जी के नाम पर अनेकों योजनाओं का संचालन कर रही है। गुर्जर सहित इन जातियों के लिए चलाई जा रही योजनाएं निम्न प्रमुख है।

  • ऋण एवं अनुदान योजना।
  • देवनारायण छात्रा स्कूटी वितरण एवं प्रोत्साहन राशि योजना।
  • देवनारायण छात्रा साईकिल वितरण योजना।
  • देवनारायण छात्रा उच्च शिक्षा आर्थिक सहायता योजना।
  • देवनारायण प्रतिभावान छात्र प्रोत्साहन योजना।
  • देवनारायण आवासीय विद्यालय योजना।
  • देवनारायण गुरूकुल योजना।

विशेष पिछडा वर्ग पूर्व मैट्रिक छात्रवृति योजना।